श्यामा आन बसों वृन्दावन में – भजन 

By Tami

Published on:

श्यामा आन बसों वृन्दावन में - भजन

धर्म संवाद / डेस्क : भगवान श्री कृष्ण को समर्पित यह भजन बेहद ही लोकप्रिय है और सब का मन मोह लेती है।

श्यामा आन बसों वृन्दावन में,
मेरी उम्र बीत गयी गोकुल में ।

[short-code1]

श्यामा रसते में बाग लगा जाना,
फुल बीनुगी तेरी माला के लिए ।
तेरी बाट निहारूं कुंजन में,
मेरी उम्र बीत गयी गोकुल में ॥

WhatsApp channel Join Now
Telegram Group Join Now
Instagram Join Now

यह भी पढ़े : नंदरानी कन्हयो जबर भयो रे – भजन



श्यामा आन बसों वृन्दावन में,
मेरी उम्र बीत गयी गोकुल में ।

श्यामा रसते में कुआँ खुदवा जाना,
मैं तो नीर भरुंगी तेरे लिए ।
मैं तुझे नहालाउंगी मल-मल के,
मेरी उमर बीत गयी गोकुल में ॥

श्यामा आन बसों वृन्दावन में,
मेरी उमर बीत गयी गोकुल में ।

श्यामा मुरली मधुर सुना जाना,
मोहे आके दरश दिखा जाना ।
तेरी सूरत बसी है अंखियन में,
मेरी उमर बीत गयी गोकुल में ॥

श्यामा आन बसों वृन्दावन में,
मेरी उमर बीत गयी गोकुल में ।

श्यामा वृन्दावन में आ जाना,
आकर के रास रचा जाना ।
सूनी गोकुल की गलियन में,
मेरी उमर बीत गयी गोकुल में ॥

श्यामा आन बसों वृन्दावन में,
मेरी उमर बीत गयी गोकुल में ।

श्यामा माखन चुराने आ जाना,
आकर के दही बिखरा जाना ।
बस आप रहो मेरे मन में,
मेरी उमर बीत गयी गोकुल में ॥

श्यामा आन बसों वृन्दावन में,
मेरी उमर बीत गयी गोकुल में ।

See also  राधिके ले चल परली पार – भजन

Tami

Tamishree Mukherjee I am researching on Sanatan Dharm and various hindu religious texts since last year .