12 राशियों में कैसा होता है सूर्य का गोचर

By Tami

Published on:

सूर्य का गोचर

धर्म संवाद / डेस्क : ज्योतिष शास्त्र के अनुसार, सूर्य को नवग्रहों के राजा माना जाता है। हर महीने सूर्य 12 राशि में गोचर करता है यानि एक राशि से दूसरी राशि में प्रवेश करता है। इसे सूर्य संक्रांति भी कहा जाता है। गोचर के दौरान सूर्य हर राशि के अलग-अलग भावों में स्थित होकर उनपर अपना प्रभाव डालता है।आइए जानते हैं अलग अलग राशि में सूर्य के गोचर का उसी राशि पर क्या प्रभाव पड़ता है।

यह भी पढ़े : किस राशि के कौन है इष्ट देव, जाने किस देवी-देवता की करे पूजा

मेष राशि – मेष राशि में सूर्य का गोचर उत्तम माना जाता है। इससे उग्र ऊर्जा का प्रवाह जागृत होता है जिससे जातकों की महत्वाकांक्षाओं को प्रज्ज्वलन होता  है और उनके साहसिक कार्यों को बढ़ावा मिलता है। उनमे आत्मविश्वास बढ़ता है और अपना लक्ष्य हासिल करने की चाह भी उत्पन्न होती है। इस दौरान धार्मिक स्थानों पर जाने के लिए आपका झुकाव बढ़ेगा। 

वृषभ राशि- वृषभ राशि  में सूर्य एक विशेष संयोजन बनाता है। सूर्य गोचर के दौरान आप अधिक आत्मविश्वास और हठी हो सकते हैं। इस दौरान परिवार और घर के मामलों में आपका झुकाव बढ़ेगा। आप अपने कार्यस्थल पर अत्यधिक जिम्मेदार नजर आएंगे। आपका खर्च बढ़ेगा। आप अपने सामाजिक दायरे का आनंद लेंगे और समाज के बीच सम्मान प्राप्त करेंगे।

मिथुन राशि- मिथुन राशि में सूर्य की उपस्थिति अच्छी मानी जाती है। यह संचार और बौद्धिक गतिविधियों पर प्रकाश डालता है। जो लोग प्रबंधन, मीडिया या विज्ञापन क्षेत्र से जुड़े हैं, वो इस समय सफल रहेंगे। आप आस-पास के वातावरण और परिस्थितियों को आसानी से अपना लेंगे।आप नए विचारों और सामाजिक मेलजोल की ओर आकर्षित होते हैं।

कर्क राशि – जब सूर्य कर्क राशि में आएगा तो आप बहुत भावुक होंगे । इससे आपको काफी नुकसान हो सकता है। सूर्य गोचर के दौरान आप किसी पर भी आसानी से भरोसा नहीं कर पाएंगे । आप ज्यादातर समय घर पर रहना पसंद करेंगे। कार्य क्षेत्र में सफलता आपके लिए आसान नहीं होगी और आपको इसके लिए कड़ी मेहनत करनी होगी।

सिंह राशि – सूर्य सिंह राशि का स्वामी भी है। इस दौरान जातकों को  उज्ज्वल ऊर्जा की वृद्धि प्राप्त होती है। आप जोखिम उठाने के लिए साहसी होंगे, आत्मविश्वास और आशा से भरे रहेंगे। यदि आप किसी उच्च सरकारी पद पर हैं तो आप सफल होंगे । 

कन्या राशि – जब सूर्य कन्या राशि में होगा तो आप स्वभाव से बहुत आवेगी होंगे। आप अपने लिए एक लक्ष्य बना सकते हैं और आप उसी लक्ष्य का पीछा करेंगे। आप अपनी जीवनशैली, खान-पान और स्वास्थ्य आदतों और को बेहतर बनाने का प्रयास करेंगे। इस दौरान कन्या राशि वाले अधिक विस्तार-उन्मुख और संगठित हो जाते हैं। वे  आत्म-सुधार को प्राथमिकता देते हैं और कुशल कार्य सिद्धि में संतुष्टि पाते हैं।

यह भी पढ़े : कब होता है कुंडली में राजयोग

तुला राशि- जैसे ही सूर्य तुला राशि में भ्रमण करता है, तो सद्भाव और संतुलन केंद्र में आ जाता है। वे अपने जीवन के सभी पहलुओं में संतुलन की स्थापना करते हैं। आप इस दौरान निष्पक्ष विचारों से भरे रहेंगे। नियमों का पालन करेंगे और सभी के प्रति अच्छी भावनाओं से भरे रहेेंगे। आप धन की कमी से परेशान हो सकते हैं ।

वृश्चिक राशि- जब सूर्य वृश्चिक राशि में प्रवेश करता है तो व्यक्ति सत्य को जानने की तरफ बढ़ता है। आप अनुभवों से सीखेंगे और इस अवधि के दौरान अपने जीवन में हर नवीन ज्ञान को शामिल करने का प्रयास करेंगे। आप अपनी भावनाओं को अपने दिल के भीतर दबा लेंगे। विवाहित जातक इस समय असंतुष्ट हो सकते हैं। आप बचत पर ज्यादा ध्यान देंगे। 

धनु राशि- जैसे ही सूर्य धनु राशि पर कृपा करता है, तो यह उनकी साहसिक भावना को प्रज्वलित करता है।  व्यक्ति बहुत ही जिम्मेदार बन जाता है। इस अवधि में आपकी उदारता और ईमानदारी चरम पर होगी। आप बहुत सभ्य और विनम्र होंगे और खुद को दूसरों के लिए एक उदाहरण के रूप में स्थापित करेंगे।  आप इस समय किसी पर हावी नहीं होंगे और ना ही चाहेंगे कि आप पर कोई हावी होने की कोशिश करे। 

मकर राशि- मकर राशि में सूर्य का गोचर करियर और महत्वाकांक्षा के क्षेत्र को रोशन करता है। मकर राशि वाले अपने लक्ष्यों को प्राप्त करने के लिए अधिक केंद्रित और प्रेरित हो जाते हैं। आप इस गोचर के दौरान विचारशील होंगे। आप जो चाहते हैं उसे प्राप्त करने के लिए कड़ी मेहनत करेंगे । विवाहित जीवन में आप बहुत वफादार और भरोसेमंद होंगे और अपने साथी से भी यही उम्मीद करेंगे। 

कुंभ राशि- जब सूर्य कुंभ राशि में होता है, तो जातक क्रोधी हो सकता है। आप बहुत भावुक होंगे और हमेशा दूसरों की भलाई के बारे में सोचेंगे । आप सभी के प्रति दयालु होंगे। कभी-कभी आप खुद को अकेला महसूस कर सकते हैं और दुनिया से खुद को अलग कर सकते हैं।

मीन राशि- मीन राशि में सूर्य का गोचर उनकी संवेदनशीलता और अंतर्ज्ञान को बढ़ाता है। इस दौरान  आप एक अच्छे श्रोता होंगे और आप जिन भी परिस्थितियों का सामना करेंगे उसके अनुसार खुद को ढाल लेंगे। आपको अपने बच्चों के साथ अच्छा समय बिताने का मौका मिलेगा।  इस राशि के कुछ लोग इस समय धार्मिक और आध्यात्मिक गतिविधियों में रुचि ले सकते हैं।

Tami

Tamishree Mukherjee I am researching on Sanatan Dharm and various hindu religious texts since last year .