इन वास्तु नियमों को अपनाएं ,नहीं होंगी स्वास्थ्य संबंधी परेशानी

By Admin

Published on:

सोशल संवाद/ डेस्क : सबसे बड़ा गहना स्वास्थ्य को कहा जाता है। अगर आपकी सेहत ठीक है तो आप हर काम कर सकते हैं, हर चुनौती से लड़ सकते हैं। कई बार ऐसा होता है कि सही खान-पान और दवाई लेने के बाद भी बीमारी व्यक्ति का पीछा ही नहीं छोड़ती। इसका कारण वास्तु दोष हो सकता है। वास्तु के कुछ नियम ऐसे हैं, जिनका पालन कर के आप कई बीमारियों को अपने घर और परिवार से दूर रख सकते हैं। आइये जानते हैं वो नियम।

वास्तु के अनुसार, अच्छी नींद व्यक्ति को काफी बीमारियों से दूर रखती है। रात को सोते समय ध्यान दें कि आपका सिर दक्षिण दिशा की तरफ हो और पैर उत्तर की तरफ। इन दिशाओं में इस प्रकार सोने से सिर दर्द और नींद ना आने वाली परेशानी नहीं होती।

यह भी पढ़े : अगर टेंशन से पाना है छुटकारा , तो बेड के पास ना रखे ये चीज़े

यदि घर के ईशान कोण यानी उत्तर-पूर्व दिशा में टॉयलेट या फिर सीढ़ियां बनी होती हैं तो घर की मुख्य महिला ही नहीं, बल्कि अन्य सदस्यों को भी मानसिक तनाव या मस्तिष्क से जुड़ी समस्याएं हो सकती हैं। इसीलिए ईशान कोण में टॉयलेट या सीढ़ियां ना बनाय।

किचन के चूल्हे पर खाना बनाते समय घर की महिला का मुंह भूलकर भी दक्षिण दिशा की तरफ नहीं होना चाहिए। ऐसी सूरत में कमर दर्द, जोड़ों का दर्द जैसी समस्याओं का सामना करना पड़ सकता है।

कहते हैं अगर आपके घर के सामने पेड़ या खंभा है तो घर के मेन गेट पर रोज स्वास्तिक बनाएं और एक तुलसी का पुधा रख दे ।  ऐसा करने से घर में प्रवेश करने वाली सारी नकारात्मक ऊर्जा, सकारात्मक ऊर्जा में बदल जाती है।

वास्तु शास्त्र के हिसाब से सीधी के निचे सामना रखना ठीक नहीं माना गया है क्योंकि ऐसा करने से आप कई बीमारियों से घिर सकते हैं। अच्छे स्वास्थ्य के लिए वास्तु में सीढ़ियों के नीचे की जगह को साफ और अव्यवस्था मुक्त रखने की सलाह दी जाती है।

Admin