श्री गणेश आरती लिरिक्स | Shree Ganesh Aarti Lyrics

By Tami

Published on:

श्री गणेश आरती Lyrics

धर्म संवाद / डेस्क : भगवान गणेश की पूजा करने से सारे विघ्न दूर हो जाते हैं. उन्हें प्रथम पूजनीय देव माना जाता है. उनकी पूजा सबसे पहले होती है. उनकी पूजा के बिना दुसरे किसी भी देवी-देवता की पूजा नहीं की जाती. उनकी पूजा करने के बाद गाये ये आरती.

जय गणेश जय गणेश, जय गणेश देवा ।
माता जाकी पार्वती, पिता महादेवा ॥

एक दंत दयावंत, चार भुजा धारी ।
माथे सिंदूर सोहे, मूसे की सवारी ॥

जय गणेश जय गणेश, जय गणेश देवा ।
माता जाकी पार्वती, पिता महादेवा ॥

यह भी पढ़े : लक्ष्मीजी आरती | Lakshmiji Aarti

पान चढ़े फल चढ़े, और चढ़े मेवा ।
लड्डुअन का भोग लगे, संत करें सेवा ॥

जय गणेश जय गणेश, जय गणेश देवा ।
माता जाकी पार्वती, पिता महादेवा ॥

अंधन को आंख देत, कोढ़िन को काया ।
बांझन को पुत्र देत, निर्धन को माया ॥

जय गणेश जय गणेश, जय गणेश देवा ।
माता जाकी पार्वती, पिता महादेवा ॥

‘सूर’ श्याम शरण आए, सफल कीजे सेवा ।
माता जाकी पार्वती, पिता महादेवा ॥

जय गणेश जय गणेश, जय गणेश देवा ।
माता जाकी पार्वती, पिता महादेवा ॥

—– Additional —–
दीनन की लाज रखो, शंभु सुतकारी ।
कामना को पूर्ण करो, जाऊं बलिहारी ॥

जय गणेश जय गणेश, जय गणेश देवा ।
माता जाकी पार्वती, पिता महादेवा ॥

Tami

Tamishree Mukherjee I am researching on Sanatan Dharm and various hindu religious texts since last year .