गुरुवार के दिन करें ये 5 कार्य , चमकेगी किस्मत

By Admin

Published on:

सोशल संवाद / डेस्क : गुरूवार का दिन हिन्दू धर्म में अनूठी मान्यता रखता है।  गुरुवार को बृहस्पतिवार भी कहा जाता है और ये दिन भगवान बृहस्पति को समर्पित होता है। इस दिन भगवान बृहस्पति की विधि-विधान से पूजा की जाती है। बृहस्पति को सबसे बड़ा ग्रह माना जाता है, साथ ही ये देवताओं के भी गुरु कहे जाते हैं। 

 ज्योतिष के अनुसार गुरुवार या गुरु ग्रह का संबंध महर्षि बृहस्पति और भगवान दत्तात्रेय से है परंतु लाल किताब के अनुसार भगवान ब्रह्मा इसके देवता हैं।

यह भी पढ़े : जाने मोती धारण करने के फायदे

इस दिन कुछ विशेष उपाय करने से ग्रहों की स्थिति मजबूत होती है और धन की प्राप्ति भी होती है।

1.गुरुवार का व्रत करें : कुंडली में यदि बृस्पति कमजोर है, तो जातक को गुरुवार का व्रत अवश्‍य करना चाहिए क्योंकि बृहस्पति से ही भाग्य जागृत होता है। उसी से आसानी से विवाह होता है और वैवाहिक जीवन में सुख मिलता है।

2 घी का दीपक जलाएं: गुरुवार अपने घर के मंदिर में भगवान विष्‍णु की पूजा करें और उनके सम्‍मुख घी का दीपक जलाकर रखें। और अच्‍छा होगा यदि आप कलावे की बाती से यह दीपक जलाएं और उसमें थोड़ी सी केसर भी डाल दें। इससे भगवान विष्णु प्रसन्न होते हैं।

3. पीले फलों का दान करें :  शास्‍त्रों मे बताया गया है कि गुरुवार को फलों का दान आपकी कुंडली में गुरु की स्थिति को मजबूत बनाता है। गुरुवार को पीले फलों का दान करना सबसे उत्‍तम है। किसी बुजुर्ग व्यक्ति को केला, पपीता, फल दान देना चाहिए। इसके साथ ही जरूरतमंद लोगों को फलों का दान अवश्‍य करें। अस्पताल में जाकर मरीजों के बीच में भी आप फल बांट सकते हैं। ऐसा करने से आपको बहुत पुण्‍य मिलेगा।

4. गुरु का आशीर्वाद लें – ऐसा माना जाता है कि गुरुवार का दिन गुरु को भी समर्पित होता है। यदि आपके कोई आध्‍यात्मिक गुरु हैं तो गुरुवार को जाकर उनसे भेंट करें और उनके उपहार भी लेकर जाएं। चरण स्‍पर्श करके उनकी आशीर्वाद लें। ऐसा करने से आपको करियर में तरक्‍की हासिल होगी। यदि आपका कोई गुरु नहीं है तो मंदिर में जाकर पुजारीजी के चरण छूकर उनका भी आशीर्वाद ले सकते हैं।

5. चंदन या हल्दी का तिलक लगाएं : गुरुवार के दिन सफेद चंदन, केसर, हल्दी या गोरोचन का तिलक लगाना चाहिए जिससे गुरु का बल बढ़ता है। इस दिन केसर खाना और नाभि, कपाल और कान पर लगाना भी चाहिए। गुरुवार को केसर का तिलक लगाने से कुंडली में बृहस्पति के अच्छे प्रभाव मिलते हैं।

Admin