ये है 200 साल पुरान मंदिर….इस मंदिर में सर्दियां आते बदल जाते है भगवान का शृंगार

By Admin

Published on:

सोशल संवाद/डेस्क : मध्य प्रदेश का तापमान लगातार रात में गिरता जा रहा है. जिससे ठंड भी बढ़ने लगी है. ऐसे में अब भक्त भगवान को भी ठंड से बचाने में लग गए हैं. अक्सर अपने लोगों को ही ऊनी कपड़े पहनते हुए देखा होगा. लेकिन मध्य प्रदेश के बुरहानपुर जिले के प्राचीन राधावल्लभ मंदिर में मंदिर पुजारी की ओर से भगवान श्री कृष्णा और राधा रानी को ऊन के वस्त्र पहनने के साथ उन्हें गर्म सिगड़ी भी लगाईं जा रही है. ताकि भगवान को किसी प्रकार से ठंड नही लगे. सुबह और शाम के समय प्रसाद के रूप में गर्म वस्तुओं का भोग लगाया जाता है.

लोकल 18 की टीम ने मंदिर के पुजारी शैलेंद्र मुखिया से बात की तो उन्होंने कहा कि पोश महीने में एक माह तक खिचड़ी महोत्सव राधावल्लभ मंदिर में मनाया जाता है. यहां पर ठंड का मौसम शुरू होने से भगवान को ऊनी वस्त्र के साथ सिगड़ी लगाई जाती है. ताकि किसी प्रकार से कोई ठंड ना लगे. यह खिचड़ी महोत्सव बुरहानपुर जिले में एक मात्र ऐसा मंदिर है. जहां पर यह उत्सव मनाया जाता है. इस उत्सव में भगवान को शाम के समय गर्म खिचड़ी का भोग लगाते हैं. और मोटे अनाज से बने हुए पकवान भी रोजाना भोग में रखे जाते हैं. ताकि भगवान को किसी प्रकार से ठंड का कोई असर ना हो.

जिले का यह राधा वल्लभ मंदिर 200 साल पुराना है. भगवान श्री कृष्णा और राधा रानी की यह प्रतिमा यमुना जी से प्रकट हुई है. जिसकी इस मंदिर में स्थापना की गई है. इस मंदिर पर श्री कृष्ण जन्माष्टमी और खिचड़ी महोत्सव बड़े हर्षोल्लास के साथ मनाया जाता है. यह उत्सव पिछले 50 वर्षों से मनाया जा रहा है.

Admin