चंदन के तिलक का धार्मिक, वैज्ञानिक और स्वास्थ्य संबंधी लाभ

By Admin

Published on:

सोशल संवाद / डेस्क : हिंदू धर्म में चंदन तिलक लगाने का बहुत महत्व है। किसी भी देवी-देवता की पूजा बिना चन्दन के सम्पन्न नहीं होती है। और अक्सर चंदन का इस्तेमाल माथे पर टीका लगाने के लिए किया जाता है। चंदन के तिलक का सिर्फ धार्मिक और वैज्ञानिक ही नहीं स्वस्थ्य के लिए भी लाभकारी है । चलिए जानते हैं इसके लाभ और महत्व। 

  • मान्यता है कि गले में सफेद चंदन की माला को धारण करने से श्रीहरि विष्णु की कृपा बनी रहती है और साधक को मानसिक शांति और सुख-समृद्धि की प्राप्ति होती है।
  • चंदन में कूलिंग प्रॉपर्टीज होती हैं, जो त्वचा को ठंडक प्रदान करता है। अगर आप माथे पर चंदन का तिलक लगाते हैं तो आपको त्वचा के साथ शरीर को भी ठंडक प्रदान करने में मदद मिलती है।
  • चंदन में एंटीबैक्टीरियल और एंटीफंगल गुण होते हैं, जो त्वचा को संक्रमण से बचाने में मदद करता है।
  • मान्यता है कि चंदन का तिलक लगाने से व्यक्ति के मन और शरीर में सकारात्मक ऊर्जा और सौभाग्य आकर्षित होता है। 

यह भी पढ़े : हिंदू धर्म में नारियल का क्या है महत्व, जाने क्यों है नारियल शुभ

  • दोनों भौंहों के बीच में चंदन का तिलक लगाने से सिरदर्द की समस्या से राहत मिलती है।
  • चंदन के तिलक से हमारी तंत्रिकाएं शांत होती हैं, जिससे सिरदर्द की समस्या दूर हो जाती है।
  • धार्मिक मान्यता के अनुसार, चंदन का तिलक लगाने से मनुष्य के पापों का नाश होता है।
  • जिन लोगों को अनिद्रा और तनाव की समस्या हमेशा रहती है उन्हें माथे के बीच में मसाज करना चाहिए और चंदन का टीका लगाना चाहिए। ऐसा करने से अनिद्रा और तनाव जैसी समस्याएं दूर होती हैं।
  • मान्यता है कि प्रतिदिन गोपी-चंदन से तिलक धारण करने वाला पापी मनुष्य भी भगवान कृष्ण के धाम, गोलोक वृन्दावन को प्राप्त होता है।

Admin